Seminar Topics

www.seminarsonly.com

IEEE Seminar Topics

World Food Safety Day Hindi : World Food Day Theme, Poster, Quotes, Chart, Images PNG


Published on Oct 21, 2020

World Food Safety Day Hindi : World Food Day Theme, Poster, Quotes, Chart, Images PNG

 

World Food Safety Day Hindi : विश्व खाद्य दिवस एक है अंतरराष्ट्रीय दिन हर साल की स्थापना की तारीख के सम्मान में 16 अक्तूबर को दुनिया भर में मनाया खाद्य और कृषि संगठन के संयुक्त राष्ट्र 1945 में दिन के साथ संबंध कई अन्य संगठनों द्वारा व्यापक रूप से मनाया जाता है खाद्य सुरक्षा , जिसमें विश्व खाद्य कार्यक्रम और कृषि विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय

World Food Day 2020 marks the 75th anniversary of FAO in an exceptional moment as countries around the world deal with the widespread effects of the global COVID-19 pandemic. It’s a time to look into the future we need to build together.




World Food Safety Day Hindi

विश्व खाद्य दिवस एक है अंतरराष्ट्रीय दिन हर साल की स्थापना की तारीख के सम्मान में 16 अक्तूबर को दुनिया भर में मनाया खाद्य और कृषि संगठन के संयुक्त राष्ट्र 1945 में दिन के साथ संबंध कई अन्य संगठनों द्वारा व्यापक रूप से मनाया जाता है खाद्य सुरक्षा , जिसमें विश्व खाद्य कार्यक्रम और कृषि विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय कोष शामिल है ।

2014 के लिए विश्व खाद्य दिवस की थीम पारिवारिक खेती थी: "दुनिया को खिलाना, पृथ्वी की देखभाल करना"; 2015 में यह "सामाजिक संरक्षण और कृषि: ग्रामीण गरीबी के चक्र को तोड़ना" था; 2016 में यह जलवायु परिवर्तन है: "जलवायु परिवर्तन हो रहा है। खाद्य और कृषि भी बहुत जरूरी है", [1] जो 2008 के विषय और उससे पहले 2002 और 1989 की प्रतिध्वनियां ग्रहण करता है।

मूल

विश्व खाद्य दिवस (डब्ल्यूएफडी) एफएओ के सदस्य देशों द्वारा नवंबर 1979 में संगठन के 20 वें आम सम्मेलन में स्थापित किया गया था। हंगेरियन प्रतिनिधिमंडल, जिसका नेतृत्व हंगरी के पूर्व कृषि मंत्री और खाद्य डॉ। पाएल रोमानी ने किया था , ने 20 वें सत्र में एक सक्रिय भूमिका निभाई थी। एफएओ सम्मेलन और दुनिया भर में डब्ल्यूएफडी को मनाने का सुझाव दिया। तब से यह हर साल 150 से अधिक देशों में देखा गया है, जो गरीबी और भुखमरी के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाता है ।

कार्यक्रम

150 से अधिक देशों में, कार्यक्रम विश्व खाद्य दिवस को चिह्नित करते हैं। हाल के वर्षों में आयोजित दुनिया भर की घटनाओं के उदाहरण सूचीबद्ध हैं।

भारत

विश्व खाद्य दिवस 1945 में संयुक्त राष्ट्र के एफएओ की स्थापना की तारीख के सम्मान में मनाया जाता है। भारत में भी इसका पालन किया जाता है।

विश्व खाद्य दिवस के मुख्य उद्देश्य:

• सभी राष्ट्रों में भूख, कुपोषण एवं गरीबी के खिलाफ़ संघर्ष करने के लिए जागरूकता एवं प्रोत्साहन प्रसारित करना।
• कृषि विकास पर ध्यान केंद्रित करना।
• कृषि खाद्य उत्पादन को बढ़ावा देना।
• अधिकांश विकासशील देशों के बीच आर्थिक एवं तकनीकी क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा देना।
• ग्रामीण लोगों मुख्यत: महिलाओं एवं कम विशेषाधिकार प्राप्त लोगों को उनके योगदान करने के लिए प्रेरित करना।
• विकासशील देशों के बीच प्रौद्योगिकी हस्तांतरण को बढ़ावा देना।

जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए कुछ उपाय:

• प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग ध्यानपूर्वक करें।
• कभी खाना बर्बाद न करें, उसे ज़रुरतमंदों के साथ बांटें।
• हरियाली बढ़ाने के लिए नए पेड़ लगाएं।
• प्लास्टिक को न कहें। प्लास्टिक की थैलियों के बजाए पुन: प्रयोज्य शॉपिंग बैग एवं बोतलों का उपयोग करें।
• कागज़ रहित जाएं। जहां भी संभव हों, डिजिटल प्रौद्योगिकी का उपयोग करें।
• हमेशा ऊर्जा एवं पानी के कुशल उपकरणों का उपयोग करें।
• जैविक खाद्य पदार्थों को प्राथमिकता दें।

सरकारी पहलें

 भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (Food Safety and Standards Authority of India-FSSAI) ने राज्यों द्वारा सुरक्षित खाद्य उपलब्ध कराए जाने के प्रयासों के संदर्भ में पहला राज्य खाद्य सुरक्षा इंडेक्स (State Food Safety Index-SFSI) विकसित किया है।
 इस इंडेक्स के माध्यम से खाद्य सुरक्षा के पाँच मानदंडों पर राज्यों का प्रदर्शन आँका जाएगा। इन श्रेणियों में निम्नलिखित मानदंड शामिल हैं-
o मानव संसाधन और संस्थागत प्रबंधन
o कार्यान्वयन, खाद्य जाँच-अवसंरचना और निगरानी
o प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण
o उपभोक्ता सशक्तीकरण
 एक अभिनव और बैट्री से चलने वाले ‘रमन 1.0’ नामक उपकरण का शुभारंभ भी किया है। यह उपकरण खाद्य तेलों, वसा और घी में की गई मिलावट का एक मिनट से भी कम समय में पता लगाने में सक्षम है।
 स्कूलों तक खाद्य सुरक्षा का मुद्दा ले जाने के लिये ‘फूड सेफ्टी मैजिक बॉक्स’ नामक नवाचारी समाधान की भी शुरुआत की गई है।
 स्वयं ही खाने में मिलावट की जाँच करने वाले इस किट में एक मैनुअल और एक उपकरण लगा है।
 भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने विश्वविद्यालयों, स्कूलों, कॉलेजों, संस्थानों, कार्यस्थलों, रक्षा/अर्द्ध सैनिक प्रतिष्ठानों, अस्पतालों और जेलों जैसे 7 परिसरों को ‘ईट राइट कैंपस’ के रूप में घोषित किया है।
 भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (Food Safety and Standards Authority of India-FSSAI) ने खाद्य कंपनियों और व्यक्तियों के योगदान को पहचान प्रदान करने के लिये ‘ईट राइट अवार्ड’ की स्थापना की है, ताकि नागरिकों को सुरक्षित और स्वास्थ्यकर खाद्य विकल्प चुनने में सशक्त बनाया जा सके।


• More than 3 billion people in the world lack access to the Internet, most of them in rural and remote areas. Smallholder farmers need greater access to innovation, technology, finance and training to improve their livelihoods.

• Intensified food production, combined with climate change, is causing a rapid loss of biodiversity. Currently, only nine plant species account for 66 % of total food crop production.

• Poor diets and sedentary lifestyles have led to soaring obesity rates, not only in developed countries, but also low-income countries, where hunger and obesity often coexist. No region is exempt.

What Can The Private Sector Do?

Private businesses should invest in sustainable, resilient food systems which offer decent employment.

• Companies should develop, adapt, and share technologies that help to transform food systems.

• Private sector food businesses and retailers should make sustainable food choices attractive, available, and affordable.

• Companies should develop plans to minimize food losses and waste in production and processing and use or share excess stocks and food surpluses.

• Companies should respect national regulations and measures to protect food safety, food quality and the wellbeing of staff along the entire food chain, especially in developing countries.

• Digital sector companies can help to build the resilience of food chains. They can develop, adapt, and share technologies to address transport, supply and demand issues, and help to smooth temporary shortages or surpluses.

• Food companies, including e-commerce firms, can embrace or share new technologies to manage supplies, especially highly perishable goods.

• In times of crisis, banks and financial institutions can help farmers with outstanding loans by considering measures like waiving fees, extending payment due dates, or offering alternative repayment plans.

• Large, healthy enterprises can help to insulate supply chains and consider extending credit to help smaller businesses stay afloat.

• Companies can share expertise or technologies with public and other private entities to help improve sustainable food production and livelihoods. Mobile apps and other digital tools can help tackle challenges ranging from climate change and crop pests to pandemics.

• Companies should be mindful of their impact on natural resources and adopt a sustainable approach.


Comment Box is loading comments...